26 January Speech, Essay, Bhashan, Anchoring Script in Hindi

Advertisement

भारत 26 जनवरी, 2021 को अपना 72 वां गणतंत्र दिवस मनाएगा। 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान लागू हुआ था। जिस कारण यह दिवस मनाया जाता है। भारत में, गणतंत्र दिवस एक त्यौहार से कम नहीं है, पूरे देश में जाति, पंथ, धर्म की परवाह किए हर देशभक्‍त ये राष्‍ट्रीय पर्व मनाता है। इस दिवस पर तिरंगा हर तरफ लहराता हुआ नजर आता हैं। भारत एक ऐसा राष्ट्र है जिसे “अनेकता में एकता” का देश कहा जाता है। अगर आप भी गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं तो आप गणतंत्रदिवस पर भाषण (Republic Day Speech in Hindi) सुना सकते हैं। इसलिए यहां हम कुछ विचारों के साथ ऐसे भाषण प्रकाशित कर रहे हैं जिसे शिक्षक और छात्र इस गणतंत्र दिवस पर अपना भाषण दे सकते हैं।

26 January Speech Images 591x630 #00032

26 January Speech in Hindi

 

स्पीच 1: हर साल 26 जनवरी को भारत अपना गणतंत्र दिवस मनाता है क्योंकि इसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। इसे हम सभी राष्ट्रीय पर्व के रुप में मनाते है और इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया गया है। इस महान दिन पर भारतीय सेना द्वारा भव्य परेड किया जाता है जो सामान्यत: विजय चौक से शुरू होकर इंडिया गेट पर खत्म होता है। इस दौरान तीनों भारतीय सेनाओं (थल, जल, और नभ) द्वारा राष्ट्रपति को सलामी दी जाती है, साथ ही सेना द्वारा अत्याधुनिक हथियारों और टैंकों का प्रदर्शन भी किया जाता है, जो हमारे राष्ट्रीय शक्ति का प्रतीक है।

स्पीच 2: 26 जनवरी सन् 1950 को हमारे देश को पूर्ण स्वायत्त गणराज्य घोषित किया गया था और इसी दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। यही कारण है कि प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को भारत का गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। गांव से लेकर शहरों तक, राष्ट्रभक्ति के गीतों की गूंज सुनाई देती है और प्रत्येक भारतवासी एक बार फिर अथाह देशभक्ति से भर उठता है। बच्चों में इस दिन को लेकर बेहद उत्साह होता है। हमें आजादी बहुत ही मुश्किलों के बाद मिली है। इसके माध्यम से हम अपनी आने वाली पीढ़ी को अपने गौरवशाली इतिहास के बारे में बता सकते है। साथ ही हमें देश के सपूतों को देखकर उनसे प्रेरणा मिलती है और देश के लिए कुछ भी कर गुजरने का जज्बा पैदा होता है।

26 January Bhashan in Hindi

26 January Speech Images 622x438 #00036

भारत में गणतंत्र दिवस एक राष्ट्रीय त्योहार की तरह मनाया जाता है। इस दिन भारत की स्वतंत्रता के बाद 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ । इस दिन राजपथ पर और विविधता में एकता, अखंडता का संदेश, सैन्य ताकत दिखाती कई झांकियों का भी प्रदर्शन किया जाता है। इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण गणतंत्र दिवस पर कम ही दर्शक राजपथ की परेड देख सकेंगे। इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग का भी खास पालन किया जाएगा। अगर आप भी इस राष्ट्रीय पर्व पर कोई भाषण देना चाहते हैं, तो यहां हम आपके लिए लाएं हैं गणतंत्र दिवस से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी:

सुप्रभात.

आझ हम सभी गणतंत्र दिवस का पर्व मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। इस दिन हम सभी को अपने देश की उन्नति की कामना करनी चाहिए। सबसे पहले आपको बता दूं कि आज गणतंत्र दिवस के दिन 1950 में देश का संविधान लागू हुआ था। गणतंत्र दिवस का यह दिन हमें याद दिलाता है कि कैसे हमारे स्वतंत्रता सैनानियों ने अहिंसा और बिना किसी भेदभाव के सिद्धांतों के आधार पर स्वतंत्रता हासिल की। यही वजह है कि इस त्योहार को महान उत्साह और भव्यता के साथ मनाया जाता है।

यह दिन राष्ट्रीय गर्व का दिन है। यह हमें हमारे संविधान की विभिन्न मूल्यों की भी याद दिलाता है, जो भारत के सभी जाति और वर्ग के लोगों को एक दूसरे जोड़े रखता है। आपको बता दें कि भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। संविधान को लागू करने के लिए 26 जनवरी का दिन इसलिए चुना गया, क्योंकि 1930 में इसी दिन कांग्रेस के अधिवेशन में भारत को पूर्ण स्वराज की घोषणा की गई थी।

गणतंत्र दिवस पर राजपथ में भव्य गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन होता है। इस दिन राष्ट्रपति तिरंगा झंडा फहराते हैं। राष्ट्रगान और ध्वजारोहण के साथ उन्हें 21 तोपों की सलामी दी जाती है। अशोक चक्र और कीर्ति चक्र जैसे महत्वपूर्ण सम्मान दिए जाते हैं। इसके साथ ही सेना की तीनों टुकड़ियां परेड में शामिल होती हैं और अपनी सैन्य ताकत दिखाती हैं।

इसके बाद आधिकारिक तौर पर 29 जनवरी को ‘बीटिंग रिट्रीट’ सेरेमनी के साथ गणतंत्र दिवस उत्सव का समापन होता है।

इसी के साथ में अपने भाषण का समापन करना चाहूंगा।

जय हिंद… जय भारत

26 January Republic Day Bhashan in Hindi

26 January Speech Images 934x1295 #00040

 

स्पीच 3: 26 जनवरी को चाहे स्कूल हो या कॉलेज या आफिस सभी जगह लोग 26 जनवरी यानी कि गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में भाषण देते हैं। यदि आप भी 26 जनवरी को भाषण देना चहाते हैं। तो हमारा ये आर्टिकल आपके काम आएगा। इसे जरूर पढें।

आप सभी को मेरी तरफ से सुप्रभात। मेरा नाम _____है। मैं कक्षा ….. का छात्र या शिक्षक हूँ। हम सब जानते हैं हम सब आज यहाँ एक विशेष अवसर पर एकत्र हुए हैं। आज के दिन को हम भारत के गणतंत्र दिवस के नाम से जानते हैं।

मैं आज के महान दिन पर आप सभी को भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें बताना चाहती हूँ। सबसे पहले मैं आप सभी लोगों का शुक्रिया करना चाहती हूँ कि मुझे आप लोगों ने इस अद्भुत अवसर पर ये मौका दिया कि मैं यहां आपके सामने खडे होकर इस अवसर के बारे में और अपने प्यारे देश के विषय में कुछ शब्द बोल सकूँ।

देशभक्तों के त्याग, तपस्या और बलिदान की अमर कहानी 26 जनवरी का पर्व समेटे हुए है। उत्सर्ग और शौर्य का इतिहास भारत की भूमि पर पग-पग में अंकित है। किसी ने सच ही कहा है-

कण-कण में सोया शहीद, पत्थर-पत्थर इतिहास है।

26 जनवरी हमारे देश के लिए बहुत खास दिन है। गणतन्त्र (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। हमारे देश का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागु हुआ था। 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत एक गणतंत्र देश बन गया था। इस दिन की सबसे अच्छी बात यह है कि सभी जाति एवं वर्ग के लोग इसको एक साथ मिलकर मनाते हैं। आप सभी को पता होगा कि रिपब्लिक या गणतंत्र का मतलब क्या होता है। अपने राजनीतिक नेता को चुनने का अधिकार देश में लोगों के ऊपर होता है। भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों ने कड़ी मेहनत और संघर्ष के करके ही भारत को पूर्ण स्वराज दिलाया है। उन्होंने हमारे लिए बहुत कुछ किया है उसका ही नतीजा है कि आज हम अपने देश भारत में आराम से रह रहें है।

भारत देश के कुछ महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी नेताओं में इन महान नेताओं का नाम आता है। जैसे महात्मा गाँधी, भगत सिंह, चन्द्र शेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री इन स्वतंत्रता सेनानियों ने हमारे भारत देश को आजाद कराने के लिए अपनी जान भी न्यौछावर कर दी थी। और उनके इन महान कामों के लिए ही आज भी उनका नाम भारत देश के इतिहास में लिखा है। न ही सिर्फ लिखा ब्लकि आज भी देश का बच्चा बच्चा उनको याद करता है और उनके तरह बनना चाहता है। लगातार कई वर्षों तक इन महान लोगों ने ब्रिटिश सरकार का सामना किया और हमारे वतन को उनकी गुलामी से आज़ाद कराया। भारत वासी उनके इस बलिदान को कभी भी भुला नहीं सकते हैं। उन्ही के कारण आज हम अपने देश में आज़ादी से सांस ले रहे हैं।

हमारे प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने कहा था कि, ” हमने एक ही संविधान और संघ में हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को पाया है। जो देश में रह रहे सभी पुरुषों और महिलाओं के कल्याण की जिम्मेदारी लेता है। यह बहुत ही शर्म की बात है कि आजादी के इतने वर्षों के बाद भी हम आज अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं से लड़ रहे हैं। अब समय आ गया है कि हमें दोबारा एक साथ मिलकर अपने देश से इन बुराइयों को बाहर निकाल फेंकना है जैसे कि स्वतंत्रता सेनानी नेताओं ने अंग्रेजों को हमारे देश से निकाल दिया था। हमें अपने भारत देश को एक सफल, विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा। हमें अपने भारत देश की गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, ग्लोबल वार्मिंग, असमानता, आदि जैसे चीजों को अच्छी तरह समझना होगा और इनका हल निकालना होगा।

आओ करे प्रतिज्ञा हम सब इस पावन गणतन्त्र दिवस पर,
हम सब बापू के आदर्शों को अपनायेगे नया समाज बनायेंगे,
भारत माँ के वीर सपूतों के बलिदानों को हम व्यर्थ न जानें देंगे,
जाति ,धर्म के भेदभाव से ऊपर उठकर नया समाज बनायेंगे.

मैं एक बार फिर आपको अपने भाषण को ध्यान से सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और मुझे आप सभी के सामने अपनी बात रखने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। और आपको भी बात करने का मौका देना चाहता हूं। जय हिन्द! वन्दे मातरम!”

26 January Essay in Hindi

26 January Speech Images 1002x1146 #00038

नमस्‍ते मेरे शिक्षकों और मेरे सहपाठियों आज मैं गणतंत्र दिवस के अवसर पर आपको इस दिवस से जुड़ा इतिहास और महत्‍व बताने जा रहा हूं। भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन, उत्सव उस दिन को मनाने के लिए मनाया जाता है जब हमारा संविधान 1950 में वापस आया था। इस दिन को पूरे उत्साह और उत्साह के साथ मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस हमें हमारे संघर्ष की याद दिलाता है, कैसे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने युवाओं की मदद से पूर्ण स्वराज की मांग को प्राप्त किया। स्वतंत्रता का संघर्ष कुछ उच्च सिद्धांतों और विचारों पर आधारित था, जैसे – अहिंसा, सहयोग, गैर-भेदभाव, आदि। यह भारत के संविधान में निहित पवित्र मूल्यों की भी याद दिलाता है, यह राष्ट्रीय गौरव का दिन है। गणतंत्र दिवस परेड पर भव्य सेना का प्रदर्शन हमें याद दिलाता है कि हमारी क्षेत्रीय संप्रभुता की सुरक्षा कई बलिदानों का परिणाम है।

जय हिंद

26 January Anchoring Script in Hindi

नमस्‍ते मेरे शिक्षकों और मेरे सहपाठियों आज मैं गणतंत्र दिवस के अवसर पर इस दिवस से जुड़ी हुई कुछ रोचक जानकारियां देने जा रहा हूं। भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन, उत्सव उस दिन को मनाने के लिए मनाया जाता है जब हमारा संविधान 1950 में वापस आया था।भारतीय संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित है संविधान इस दिन को पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन, नई दिल्ली में कई उत्सव होते हैं जिसमें एक विशाल परेड होती है जिसे देश भर में हर कोई अपने टेलीविजन सेट पर देखता है। इस दिन राष्ट्र ध्वज को राष्ट्र के गौरव, और नैतिकता के साथ फहराया जाता है। हालाँकि, हमारे राष्ट्रीय ध्वज ने 22 जुलाई 1947 को अपनी वर्तमान स्थिति में अपनाए जाने तक बहुत से परिवर्तन किए हैं। अज्ञात के लिए, वर्तमान तिरंगे वाले भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को 1916 में मैकचिलिपटनम के पिंगली वेंकय्या द्वारा डिजाइन किया गया था।

वंदे मारतम।

Advertisement

Leave a Comment